The Truth of Krishna & Radhe and Krishna & his wives – Higher truths of nonduality (Advaita)

THE IN-DEPTH DETAILED MYSTERIES OF KRISHNA AND HIS WIVES AND HIS LOVER RADHE

I am deliberately keeping this write-up very detailed and huge so that it bores off or discourage casual readers looking at the length of the post itself. Everyone seeks short-cuts and quick reads and quick secrets and quick solutions, but dear one that is not how things work. It all is an investment of time, energy, passion, and persistence. Even if you are going to jump and read only what ‘entertains’ you, I discourage you to read. My sincere intension is that only sincere seekers on the path of truth and light read it, I know, only they will be able to.

Disclaimer: This is purely my perception of looking at the teachings of Advaita which i attribute having received with the loving grace of my Master and does not represent any Master, path, or organisation. This is NOT from any book but my own realisation of this truth. However, I have refered to the right sources for the indepth explanation of Krishna and his wives and written it in my own words. You are free to read it and like it if your consciousness agrees to it or are free to discard it completely in case you don’t agree. I do not encourage any debates on this nor do i insist that you have to agree with it.

This is not an article which is written with any motives but just an answer to help someone who seemed very troubled with the confusion the seeker was undergoing within, but shared it here with the hope that it help anyone else who might be in a similar state.)

It is very important to know that whenever man worships Gods as an entity outside or a power greater than him, that God is respected and worshiped only out of two inner aspects of the worshipper. It is either motivated by greed or fear. Period. Where there are these two lower quality the higher quality of unconditional love cannot be there, because the frequencies are completely opposite. There may be love but not unconditional love or divine love. Human love is also tainted by many negative factors are is not pure. This is why the worshipper often looks at his God also with similar tendencies that humans have. They will even imagine that God will respond or react or answer in a way human does, thus sometimes falling into hallucinations or something being utterly disappointed of why the Lord never answers.

Firstly, Radha was never a part of any most ancient scriptures – Vedas, Upanishads, Agam-Nigam shastras. Radha was used first in the Bhagwatam and only in the Puranas you will find the stories of such.

But whatever, i know one thing for sure. The enlightened beings – be it Ved Vyasa who wrote Mahabharata or Maharishi Valmiki who wrote Ramayana or be it Tirumoolar who wrote Tirumandiram and any and every such sacred texts, were certainly not joking around with stories nor did they try to create any entertainment stuff. They were very highly evolved beings who could go to the micro level of human existence and macro level of Universal existence and reveal that to humans, however human consciousness is not so evolved to understand and perceive those truths at those levels, so they made a symbolic representation of it all, and tried to explain it through a story form or with a form or character, because the lower state of human consciousness understands stories better than raw truths. They need to be told bed-time stories so as to trigger their own imagination and arouse their inner qualities of such similar story characters. I don’t say the characters are fake or only imaginations but they are certainly the macrocosmic external reflections of microcosmic inner realities.

Maharishi Ved Vyasa

Now, Radha is NOT a physical being. Radha is the representation of the pure form of human consciousness (Atma) who is trying to always unite back with the Parmatma (God).

Radha can be understood rightly only if you rightly understand who Krishna is 🙂 All this can be only and only understood deeply if you realise that Krishna is not a God entity or Super human that he has been depicted to be. Krishna is no person or individual but represents the God consciousness.

KRISHNA IS GOD CONSCIOUSNESS OR SUPREME CONSCIOUSNESS (PARMATMA)

We all know that we are sparks of that infinite. That spark has taken multiple forms. Each individual spark is the soul (Atma). Or you could say the drops of the infinite ocean.

RADHA IS THAT SPARK OR SOUL (ATMA), which is eternally longing to unite back to its source. The separation is unbearable. Qualitatively the ATMA and PARMATMA are the same.

Then what separates the Jeevatma and Parmatma or what separates the You and God? Or what separates Radha and Krishna?

The ego.

Ego is nothing but the illusion of “I” and thus brings a false feeling that “I” am separate from the “HE” and thus brings a feeling of me being separate and God being separate.

WHEN THE SOUL (RADHA) GETS LAYERED BY EGO/MIND/INTELLECT, IT BECOMES A JEEVATMA.

Now, this is the Jeevatma, the ‘you’ who is looking at Krishna with the ego (separateness), through a mind that is filled with all kind of impurities, ideas, beliefs, understanding, limitations. Through these lenses we see the symbolic representation of Parmatma (Krishna) and Atma (Radha) as two personalities. The moment the mind perceives them as personalities, whether you like it or not, all your knowledge and experiences of your human life will get painted on to those two personalities. Then Krishna becomes a man who once existed on earth and perished like a famous celebrity and Radhe the girl who was always awed by his presence and always wanted to unite with him. In fact, this is the truth that your atma (soul) has always had this deep longing to unite with the Parmatma too! But then this is forgotten (or never realized) and then you remain a separate entity for whom even Radha is an entity and Krishna yet another entity. Then, like a movie director, we visualise, imagine, believe or look at Radha as a human girl and Krishna as a super-human or God-like personality. Then we without any effort see the love affair between them just like in a movie because that is all that has been in our experience till now, through movies or life experiences of love affairs. Only when your consciousness is awakened and raised, can you see the real Radha in you.

So when a Jeevatma (through mind/ego) tries to look at the divine love of Radha, he or she will always look at that love through his/her mind and ego that is tainted with imperfections. He/she is certainly not seeing that as pure love or divine love but the human love which always has the impurities of lust, attachments, envy, possessiveness, selfishness, etc. That is why one who looks at Radha-Krishna with the filters of human love will always look at it as a human romantic relationship. The devotee might say it is Godly love, but if you observe closely there will no Godliness in it but human’liness’. Though you are looking at Krishna as God, he will still seem to you as a handsome dashing man, a brave-super hero, a saviour, a charming lover, an irresistible man of all virtues and qualities. Isn’t that how humans looks at another human personality? So the idea automatically becomes that ‘Krishna is a perfect man’, a personality which one (naturally) has never found on earth till now. Everyone is seeking a perfect person, boy or girl. When one doesn’t get that outside he unknowing or subconsciously is seeking it within and falls in love with God (Krishna) who he/she says is the only one that is true. You can see how true this in reality too!

Naturally, all love stories and fantasies erupt in the mind. Even if we think of it as Godly love, we fail to bring that into our experience if the consciousness is still operating from lower and not from an evolved state. How can one believe or realize something which he hasn’t experienced (divine communion with god) or experienced oneness with that Supreme) So even when an evolved being may be explaining about the divine love and nonseparatedness of Atma and Parmatma, a devotee or a listener will still perceive the love story as love story he/she has experienced in his life or seen externally and stoed in memory. It will never strike to him/her that to be worthy of Krishna (Parmatma) means that you have to reach the state of Radha (Atma-the completely purified consciousness) Then only will there be an eternal bonding between both.

LOVE OF RADHE-KRISHNA IS THE DIVINE LOVE AND MERGING OF THE ATMA AND PARMATMA. THE BONDING OR DIVINE UNION SELF-REALIZATION

Image: Painting of Rakhi Baid

Radha is the human consciousness in the most purified form. So it is only when you purify yourself completely you can become that Radha which is nothing but the pure unconditional love, the state of bliss. It is in that Satchidananda (bliss) that you meet your Krishna and this divine meeting is self-realization.

So if one identifies Radha as a character with human qualities, they are bound to live in a different illusion and end up nowhere in terms of finding their Krishna. i have personally met many such friends of mine who were mad lovers of Krishna and sought him day and night, hoping he will present himself one day and they can be one, but that never happened and brought in only gloom. It’s just like a Christian waiting for the second coming of Christ to save them. The wait is eternal. The wait for judgment day either in the greed of heaven or fear of hell is waited upon eternally until one realises that the limited human life is coming to an end. Second coming of Christ is nothing but awakening your Christ consciousness, which is already within you. Only an awakened will make efforts to rise above duality and one day realse that they themselves was the Christ consciousness. That is how the Christ (consciousness) saves you, meaning you save yourself. Those who wait for an external savior, as i mentioned before, are the ones who are motivated by greed or fear. Greed of heaven or fear of hell. Or greed of punya (merits) and fear of paapa (demerits).

Dear one, when will we realise that God is beyond all judgements and is a quality of unconditional love. If God is unconditional love how can God judge you? How can God punish you? You are punished and rewarded here on earth itself through the law of karma. Heaven and hell is experienced by souls while on earth itself and not after death. After death you only take another form depending on what karmas you have accumulated nao as to reap the fruits of that.

Similarly, Krishna is not a physical being who will one day present himself for a divine marriage with a divine lover.

So the misinterpretation of Radha is because the true essence of it wasn’t truly realized. But the whole thing is completely different for the one striving to purify oneself in order to reach the state of “Radha’hood'” and sooner or later they will find that they have found their Krishna, when after purification, they begin to remain intoxicated in their divine bliss or satchitanand – they then realize the state of Krishna Consciousness.

                          Painting of Suraj Gurjar

I feel Meera Bai was one of the highest such divine lover of Krishna. You can look at her life and contemplate on the truths. She was very devotedly married to her Krishna and would take noone else to replace her Lord. She was madly in love with him. She sung songs in his praise and love, worshipped the idol of Krishna and even left all the worldly pleasures for him. The world speaks always about her songs, devotion, and worship but hardly realizes that she had reached a higher state of consciousness through her external bhakti or devotion. She had very well internalized her external worship. Internally, she was one with Krishna and in the divine bliss of that communion with her Lord. She was so much established in Krishna Consciousness that nothing external could harm her, not even poison! One does not dare to ponder why if she had such pure love like Radha, Krishna did not visit her? If Krishna was such a human representation who had so many wives and a lover, why did Meera Bai not have any place in his physical form life, despite her life-long dedication to her beloved? This is exactly the state of many of my old friends who stated they have married Krishna, without understanding the deeper and subtler aspects of it. The delusion can later turn into inner turmoil and conflicts because of realities not matching beliefs. So, Meera Bai’s internal states were never written of because her higher state of consciousness never made her verbalise this nor could anyone perceive it. All saw here devotion to the idol. She was last seen in Vrindavan after which noone knows what happened to her. Some say she died there worshiping Krishna. Such pitiful state for a lover of such purity and grace? It is difficult for anyone to write about saints like her because it is impossible for them to see their internal states, so stories often end up in fanciful or tragic endings, as human life interpretations. That is how many write about the tragic ending of Krishna, Rama and Christ. They have no fractional idea of their internal states and why they did what they did.

While the world saw that Meera Bai was married to Krishna in her imagination and serving the idol of Lord Krishna all the time, she was in reality married with her beloved within, to her Higher Self and serving her inner Self. She remained blissful, in divine ecstasy and she attained salvation by transmuting her physical body to such purity that dissolved into light in Vrindavan, much like other saints did in other parts of the world – Saint Tukaram, Vallalar, Chaitanya Mahaprabhu, and others of the kind.

So when i visited Vrindavan, i certainly did visit there to find something out there. But it was to internalize through the external locations of the inner manifestations. You may ask then if all is nondual and within what then are these places that have strong links to the mythology. Certainly yes. It is important to know that the dual nature of entire existence iis the micocosm and macrocosm. It dissolves only when one mergies into nonduality, That is why the saying, “As Above, so Below, as Within, so Without, as the Universe, so the Soul…”

So, on this physical plane (earth) there certainly are the macrocosm reflection of the inner microcosm. We use the external to go internal (within) and use the outer realities to contemplate on the inner truths.

This is how Meera Bai used her external (dual) realities to internalize her inner states (nondual) where in the true advaita form, she and her beloved were one, there were no two. This is how the dual nature must be used to propel towards nonduality. Nonduality is the final truth of existence. Oneness. Duality ends in nonduality. If it doesn’t it remains incomplete.

Exactly, this is what happened even with Ramakrishna Paramahamsa. For his whole life he had been worshipping Mother Kali, but he was not content and knew that he had to merge with his beloved Mother, but that was not happening. That is when a great Paramahamsa named Totapuri was passing from there. Totapuri told him that it is not difficult if he drops the belief of two. Ramakrishna replied that dropping this belief was difficult because whenever he closed his eyes he saw the mother standing there and he would immediately forget that he has to merge and instead melt in devotion to her. So, Totapuri told him to close his eyes and the moment he sees the mother to pick up a sword and cut her in two. Ramakrishna asked him where would he find a sword, to which Totapuri said exactly the same that is mentioned in Ashtavakra’s sutra. Totapuri said, ”From where did you bring this Kali image? – bring a sword from the same place. She too is imaginary. She too is an embellishment of your imagination. Through nurturing it for your whole life, through continuously projecting it for your whole life, it has become crystalized. It is just imagination. Not everyone sees Kali when they close their eyes.” So Ramakrishna was now determined, but the moment he closed his eyes, his courage would vanish and he found it impossible to strike his beloved mother with a sword, because he completely forgot about it in his divine ecstasy.

Finally Totapuri was upset and said that he had wasted enough days there trying to help Ramakrishna and told him sternly, “I’ve wasted many days here. It’s no good. Either you do it or I’m going to leave. Don’t waste my time. Enough of this nonsense now!” That day Totapuri brought a piece of glass with him and told Ramakrishna that it was his last chance. Ramakrishna did not want to lose this opportunity and closed his eyes and immediately the Kali’s image appeared before him. He was about to bliss out in divine ecstasy, when Totapuri held his forehead made a cut on Ramakrishna’s forehead (on the third eye spot) with the glass piece. Blood oozed out and this time Ramakrishna found the courage. He raised the sword and cut Kali in two pieces. The moment that happened, everything became one and nondual. The wave became one with the river, the river merged into the ocean. It is said that Ramakrishna stayed immersed in this ultimate reality for six days. He neither felt hungry or thirsty for there no awareness of anything outside, anything dual. When he opened his eyes after six days, he said, “The last barrier has fallen!” He had achieved that final state!

This is the true reality of all dual that we look at. The worshipper becomes one with that which is worshipped. Now you can imagine Radha (Ramakrishna) and Krishna (Kali). You will find countless real stories where one fell in love with their own higher states through an external representation and finally became one with it. It’s just like you need a Sri Chakra or Meru first and you practice first on that external symbol of what is within (the entire Meru is internalized in Advsit Sri Vidya). Similarly, first you may need an an image of Shiva or a Shivalinga to establish a connection with that Shiva who is in reality formless and attributeless. As one evolves everything is internalized which is why the great master of Advait Sri Adi Shankaracharya taught the Shiva Manas Puja to worship Shiva internally and not externally. But unfortunately multitude who love the symbolic form of Shiva do not want to part with it or that strong ingrained belief like that of Ramakrishna. One who cannot think of parting with any form of God will easily fall in for the love stories of Radha Krishna because of the inability to internalize this reality.

Think about this. There are real stories of such in all religions. Every lover sees his or her god or diety or istha as their beloved (divine mother or divine father lover or divine friend or divine saviour) until one attains salvation merging with that form itself. So, that just means that all these forms have been true for the respective devotees of Kali, Krishna, Jesus, Nanak and the like, but have you ever imagined why does not Christ appear to a Hindu, or Krishna appear to a Sikh, or Kali appear to a Chsitian? It is because a Christian who has contemplated on Jesus will only see Jesus, a Kali devotee will always see Kali and a Sikh will see only Nanak becsue they is what they have internalized , That is why Krishna was only available to Radha or Meera Bai. But in reality what they all merged with was the Supreme consciousness (Parmatma) out of which all forms manifest – be it Krishna, Christ, Buddha, Mahavir, Muhammad or Nanak. The divine spark of God is there in all, it only takes the form that you give it.

WHY AVADHOOTAS AND SIDDHAS DON’T REALLY FALL FOR IT ALL NOR LIKE ANYONE TO GET DISILLUSIONED OR STUCK WITH DUALITY.

Similarly, there are so many stories of Shiva sending Parvati away to become worthy of him. Rama testing Sita for impurity. If a human being thinks and reacts with human tendencies then he may judge Rama for his action or question Shiva for his rudeness or doubt Krishna of having so many wives and then a lover. Humans see everything with the trigunas and everything they are seeing is influenced by the tamoguna, rajoguna, satoguna, whereas these depictions have to be understood from a higher state of consciousness. That is why Puranas took completely another form when it got misinterpreted by human consciousness. The Puranas were written by very evolved beings in a very high state of consciousness where every story and every character has deep meanings in the lives of human life. You could say all the secrets of human evolution were depicted through mythology. Some of it am mentioning further in this article. This is what I am trying to express in my videos of my travels and sadhna in the sacred temples and the mythology revolving there!

So, all the female counterparts of Rama, Krishna or Shiva represents the “Chitta” and that is why the lives if these women were depicted to be a constant struggle to quality for the worthiness. Hence the women represented the “Chitta Shuddhi” (soul purification) because until there is total Chitta Shuddhi “you” cannot rise to the highest chakra or highest state which is the Godly state (Shiva/Krishna/Rama). Marriages or union between the the male and female counterparts (Shiva-Parvati, Krishna-Radha, Rama-Sita) is nothing but the divine confluence of your consciousness and God consciousness. This merging or union is what Gurudev explains as ShivYog. It is the state of that union or marriage. That is why he discourages anyone to misinterpret this state with wrong myths and notions or take it very casually – as casual as the love story of Romeo and Juliet. It is important to understand that a human Romeo and Juliet may win over each with passion and lust but never can a Parvati or Sita or Radha win their beloveds with these lower animalistic tendencies. Meaning never can consciousness rise to meet Godly state with the impure human qualities.

So firstly to see these mythological characters as God and then adore and love and worship them is a very great start in the journey towards the infinite, but as you move on, deeper aspects starts revealing itself and these characters then began revealing itself as each and every aspect of a manifestation of that pure Consciousness. That is how dwaita (dual) worship starts becoming Advaita (nondual). Then one begins rising above the limitations of duality and starts seeing nonduality. Until you are in a state of duality you will always see God as a separate entity. That is why you see Krishna as separate and Radha as a distant lover. These states will always be ruled by all humanly traits like greed, fear, envy, sadness, etc because there is a constant separateness from the Ishta. There is always a sense of longing and isolation and desperateness etc like a human lover has. But the moment the seeker switches over to the right perspective, all human nature is left behind and the intension is purer and divine.

This is why an Avadhoota will not advocate worshipping Radha because she is first of all not an entity outside. An Avadhoot would get mad at someone who would say he/she is a devotee of Radhe. They would feel he is against Radhe. He is not against Radhe but he is against your ignorance who has mistaken Radhe to be a lover and angry at your ignorance of making a pure and divine Krishna for lower passions. He is angry at souls getting diverted from their true purpose and creating more of illusions for themselves and the world around. He is angry because the world has now madly called Krishna as a mad lover, who madly in love with a girl. He insists then that Krishna is not a lover but a warrior and a Yogi. Yes, he is – the Soul – who is looking at everything neutrally, only following eternal dharma. How degrading when this super-state of consciousness is degraded to someone who is bound by vasanas. How can that state be God? How ignorantly human minds blindly follow something just because it was a part of their belief system or a system created by society. An Avadhoota will always break ignorance. So you cannot go to him with the same stories you look at because he is the one who has realized the Supreme..

There are even more deeper secrets of all this mentioned further below in this article, which you will understand as you continue reading in continuity and sequence.

Now, let me also share this. People now very nicely justify even Krishna with their own vasanas. They portray him as a flirt, some bhajans even are sung this way (mostly unknowingly because everyone sings that way). Many take the liberty of justifying their extramarital affairs in the name of Krishna, stating that Krishna had 1600+ wives and even then he had a love affair with Radha. They even portray Rasleela with their own reflections of lust and sexual enjoyments. Then i saw many devotees fight among each other. One was devotionally trying to justify that Krishna had married to only save them from the clutches of the demon. What he heard is perfectly right but he too mistook the story failig to understand the deeper meanings behind that story.

Unfortunately, unless you are student of your internal subtle system, most of these inner secrets will not make any sense at all. That is why a Guru is needed, who can arouse the Kundalini and help raise the consciousness. It is ONLY AND ONLY with an elevated state of consciousness that such profound truths can unravel itself and cannot be taught to anyone. That is why even if you tell this to someone who is a hardcore dualistic or someone with generational blind faith, will admonish all these things. If you are understanding what we are speaking here and even able to relate, take that as a great blessing, because it is only with the grace of your Master that you can relate with it. Even better if you practice everything in this awareness.

Now, about Krishna having so many wives and plus a lover! Even a devotee feels embarrassed when people of other faiths question this. There is no proper answer because there is no proper awareness of what it is all about.

These are all symbolic representations dear ones! The 1600 wives represents your 1600 nadis! Out of 72000 nadis, these 1600 nadis are the ones that are responsible for carrying the spiritual current for spiritual evolution. The mythology says that Krishna married 1600+ ladies who were captives of the demon Narkasura. Narkasura represents the evil qualities born from our desires for the earthly pleasures and other pashubhaav (animal instincts) The demon ruled the Kingdom of Kamarupa, which symbolizes the self-image and personalities that we have created for ourselves through our reflections of our vasanas (kamarupa). This kingdom is supposed to be surrounded by mystical mountains which are nothing but the various layers of justification we give to preserve this self-image.

The story says that the kingdom was also guarded by the 5-headed demon named Mura, which represents the five senses that are always projecting and nourishing the worldly desires. The demon is said to have invaded the three lokas (worlds), which is the world of material nature, world of good and world of evil nature. Meaning that we compromise these three aspects in the pursuit of worldly desires and preservation of our identity.

The story then states that Narkasura attacked the King of Gods – Lord Indra and captured the 4-tusked white elephant that was gifted by Bhumadevi to Indra. Then, he imprisoned Lord Varuna and then stole the moon-shaped earring of the Mother of all Gods – Aditi. Now, the four tusks of the elephant symbolizes the Mooladhara chakra which has four petals and this chakra functions are related with the endocrine glands, mainly the adrenaline glands, which get hijacked through these desires. The earring of the Mother represents the nectar in the Vishuddhi chakra, which is actually the purification center of the 72,000 Nadis network. When this center get blocked, one loses the ability to discriminate between right and wrong.

The story then tells how the 16,000 young girls were in captive on the top of a mountain named Maniparvata inside his kingdom, where the demon’s 10 sons guarded the young women. Maniparvata is nothing but your Manipur chakra and the 10 sons represents the 10 life forces or Vayus. (Praṇa, Apana, Uḍana, Samana, Vyana, Naaga, Koorma, Kirukara, Devadhatha, and Dhanajaya).

The story then concludes over how Indra pleads with Krishna to put an end to the miseries given by the demon Narkasura. But Narakasura had the curse of Bramha that he would die at the hands of a woman. Story illustrates how Krishna ventures and fights and restores order in the Universe, meaning restoring the soul back to its purified state and bringing peace to the soul.

Story mentions that Krishna (super-consciousness or soul) travels on Garuda (prana), with his second wife Satyabama (Ida Nadi) and enters enters the capital city of Pragjyotisha (Mooladhara), defeats the 5-headed demon Mura (meaning retrains the five sences with the power of determination or pratyahara). Krishna then defeats the 7 sons (Saptadhatu). Saptadhatu are the 7 body tissues – Rasa (plasma), rakta (blood), mamsa (muscle), Meda (adipose tissue), Asthi (bones and cartilages), Majja (bone marrow) and Shukra (reproductive tissues). Gaining victory over these Saptadhatu, he directs his second wife Satyabama (Ida Nadi) to direct cool prana through the Ida Nadi into the Mooladhara Chakra and stimulates the dormant Kundalini Shakti to rise upwards, thus killing the demon Narkasura.

Out of the 72,000 nadis, the 1600 nadis remain dormant since birth and it is only the other remaining 52000 that we use for our day to day existence. Along with these 16,000 Nadis, there are also another 108 primary Nadis and that is why collectively they are called as 16108 wives of Krishna.

So, these 1600+ wives are not those romantic figures that your mind fantasizes but they are your own 1600+ nadis that your soul (Krishna) is engaging with, in order to purify and give you the spiritual evolution and self-realization and liberation.

The rasleela is when your Kundalini is aroused and all your nadis purify with the rising shakti and consciousness raises to the state of Krishna Consciousness, when your soul (Radhe-the pure one) merges with the purest one Parmatma (Krishna) and there is this divine dance and divine state of ecstasy which is truly the Rasleela.

So everytime you do sadhna, if you do it right, there is a rasleela happening within you, a divine dance happening within you. There is nothing really outside. This is how Advaita precedes Dvaita at some of the other time of your life, when a Guru enters your life and throws light into your own consciousness so that you rise up and perceive things in its actual truth. So, there is nothing to blame the one who has written the mythology also. It is our ignorance to blame, for we never really understood that they were simplifying the higher truths by telling us what we like to hear most – a story, than the truth! Divine Love and Light 💛

Featured Image: Painting of Darshana Mutha
All images not credited are unknown but from the internet. This website does not hold copyrights to it. If anything, please write to us and if any objection and it will be taken off immediately.

HINDI TRANSLATION (BY PRATYUSH TOMAR)
मैं जानबूझकर इस लेखन को बहुत विस्तृत और विशाल बना रहा हूं ताकि यह पोस्ट की लंबाई को देखते हुए आकस्मिक पाठकों को बंद या हतोत्साहित करे। हर कोई शार्ट-कट्स और क्विक रीड्स और क्विक सीक्रेट्स और क्विक सॉल्यूशन चाहता है, लेकिन प्रिय वह है जो काम नहीं करता है। यह सब समय, ऊर्जा, जुनून और दृढ़ता का निवेश है। यहां तक ​​कि अगर आप कूदने जा रहे हैं और केवल वही पढ़ते हैं जो आपका मनोरंजन करता है, तो मैं आपको पढ़ने के लिए हतोत्साहित करता हूं। मेरी सच्ची आत्मीयता यह है कि सत्य और प्रकाश के मार्ग पर केवल ईमानदार साधक इसे पढ़ें, मुझे पता है, केवल वे ही कर पाएंगे।
 
डिस्क्लेमर: यह विशुद्ध रूप से अद्वैत की शिक्षाओं को देखने की मेरी धारणा है जो कि मुझे अपने गुरु की प्रेममयी कृपा से प्राप्त हुई है और किसी भी मास्टर, पथ या संगठन का प्रतिनिधित्व नहीं करती है। यह किसी पुस्तक से नहीं बल्कि इस सत्य की मेरी अपनी अनुभूति है। हालाँकि, मैंने कृष्ण और उनकी पत्नियों के बारे में स्पष्ट व्याख्या के लिए सही स्रोतों का उल्लेख किया है और इसे अपने शब्दों में लिखा है। आप इसे पढ़ने के लिए स्वतंत्र हैं और इसे पसंद करते हैं यदि आपकी चेतना इससे सहमत है या आप सहमत नहीं हैं तो इसे पूरी तरह से छोड़ने के लिए स्वतंत्र हैं। मैं इस पर किसी भी बहस को प्रोत्साहित नहीं करता हूं और न ही मैं जोर देता हूं कि आपको इसके साथ सहमत होना होगा।
 
यह एक लेख नहीं है जो किसी भी मकसद के साथ लिखा गया है, लेकिन किसी ऐसे व्यक्ति की मदद करने के लिए बस एक जवाब जो उस भ्रम से बहुत परेशान लग रहा था जो साधक के भीतर चल रहा था, लेकिन इसे इस उम्मीद के साथ यहां साझा किया कि यह किसी और की मदद करता है जो इसी तरह की स्थिति में हो सकता है ।)
 
✨
 
यह जानना बहुत महत्वपूर्ण है कि जब भी मनुष्य ईश्वर को एक इकाई के रूप में या उससे अधिक शक्ति के रूप में पूजता है, तो ईश्वर का सम्मान किया जाता है और केवल उपासक के दो आंतरिक पहलुओं की पूजा की जाती है। यह या तो लालच या भय से प्रेरित है।  जहां ये दोनों निम्न गुणवत्ता के होते हैं, बिना शर्त प्यार की उच्च गुणवत्ता नहीं हो सकती है, क्योंकि आवृत्तियां पूरी तरह से विपरीत हैं। प्रेम हो सकता है लेकिन बिना शर्त प्यार या दिव्य प्रेम नहीं हो सकता। कई नकारात्मक कारक शुद्ध नहीं हैं, मानव प्रेम भी दागी है। यही कारण है कि उपासक अक्सर अपने ईश्वर को भी ऐसी ही प्रवृत्तियों के साथ देखता है जो मनुष्य के पास हैं। वे यहां तक ​​कल्पना करेंगे कि भगवान किसी तरह से मानव प्रतिक्रिया या प्रतिक्रिया या जवाब देंगे, इस प्रकार कभी-कभी मतिभ्रम में गिरते हैं या कुछ इस तरह से निराश होते हैं कि भगवान कभी जवाब क्यों नहीं देते।
 
सबसे पहले, राधा कभी भी किसी भी प्राचीन ग्रंथों का हिस्सा नहीं थी – वेद, उपनिषद, आगम-निगम शास्त्र। राधा का उपयोग पहले भागवत में किया गया था और केवल पुराणों में आपको ऐसी कथाएँ मिलेंगी।
 
लेकिन जो भी हो, मुझे एक बात ज़रूर पता है। प्रबुद्ध प्राणी – वेद व्यास हों, जिन्होंने महाभारत या महर्षि वाल्मीकि को लिखा हो, जिन्होंने रामायण लिखी हो या वह तिरुमूलर हो जिन्होंने तिरुमन्दिरम और ऐसा कोई भी पवित्र ग्रंथ लिखा हो, निश्चित रूप से कहानियों के साथ इधर-उधर नहीं हुए थे और न ही उन्होंने कोई मनोरंजन सामग्री बनाने की कोशिश की थी। वे बहुत विकसित प्राणी थे जो मानव अस्तित्व के सूक्ष्म स्तर और सार्वभौमिक अस्तित्व के स्थूल स्तर तक जा सकते थे और यह प्रकट करते थे कि मानवों के लिए, हालांकि मानव चेतना उन स्तरों पर उन सच्चाइयों को समझने और अनुभव करने के लिए विकसित नहीं है, इसलिए उन्होंने एक प्रतीकात्मक बनाया यह सब का प्रतिनिधित्व करता है, और एक कहानी के माध्यम से या एक रूप या चरित्र के साथ इसे समझाने की कोशिश करता है, क्योंकि मानव चेतना की निचली स्थिति कच्ची सच्चाइयों की तुलना में कहानियों को बेहतर समझती है। उन्हें बिस्तर-समय की कहानियों को बताया जाना चाहिए ताकि अपनी स्वयं की कल्पना को ट्रिगर किया जा सके और इस तरह के समान कहानी पात्रों के आंतरिक गुणों को जगाया जा सके। मैं यह नहीं कहता कि चरित्र नकली हैं या केवल कल्पनाएँ हैं, लेकिन वे निश्चित रूप से सूक्ष्म जगत की आंतरिक वास्तविकताओं के स्थूल बाहरी प्रतिबिंब हैं।
 
राधा एक भौतिक प्राणी नहीं है। राधा मानव चेतना (आत्म) के शुद्ध रूप का प्रतिनिधित्व करती है, जो परमात्मा (ईश्वर) के साथ हमेशा वापस आने की कोशिश कर रही है।
 
राधा को केवल तभी समझा जा सकता है जब आप सही रूप से समझते हैं कि कृष्ण कौन हैं  यह सब केवल और केवल गहराई से समझा जा सकता है यदि आपको यह पता चलता है कि कृष्ण एक ईश्वर इकाई या सुपर मानव नहीं हैं जिसे उन्हें चित्रित किया गया है। कृष्ण कोई व्यक्ति या व्यक्ति नहीं हैं, बल्कि ईश्वर चेतना का प्रतिनिधित्व करते हैं।
 
कृष्ण अनंत चेतना हैं।
 
हम सभी जानते हैं कि हम उस अनंत की चिंगारी हैं। उस चिंगारी ने कई रूप ले लिए हैं। प्रत्येक व्यक्ति की चिंगारी आत्मा है (आत्म)। या आप कह सकते हैं कि अनंत सागर की बूंदें।
 
RADHA  SOUL (ATMA) है, जो अपने स्रोत को वापस एकजुट करने के लिए अनंत समय से तरस रहा है। अलगाव असहनीय है। गुणात्मक रूप से ATMA और PARMATMA समान हैं।
 
फिर क्या जीवात्मा और परमात्मा को अलग करता है या क्या आपको और ईश्वर को अलग करता है? या राधा और कृष्ण को क्या अलग करता है?
 
अहंकार।
 
अहंकार कुछ भी नहीं है, लेकिन “मैं” का भ्रम है और इस तरह एक गलत भावना लाती है कि “मैं” “उस एक” से अलग हूं और इस तरह मेरे होने का एहसास अलग है और भगवान अलग हो रहा है।
 
जब SOUL (RADHA)  krishna(Parmatma)को प्राप्त करता है, यह एक JEEVATMA को पूरा करता है।
 
अब, यह जीवात्मा, कृष्ण को देखने वाला ‘आप’ है
एक अहंकार (अलगाव) के साथ, एक दिमाग के माध्यम से जो सभी प्रकार की अशुद्धियों, विचारों, विश्वासों, समझ, सीमाओं से भरा होता है। इन लेंसों के माध्यम से हम परमात्मा (कृष्ण) और आत्म (राधा) के प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व को दो व्यक्तित्व के रूप में देखते हैं। जिस क्षण मन उन्हें व्यक्तित्व के रूप में मानता है, चाहे आप इसे पसंद करें या नहीं, आपके मानव जीवन के सभी ज्ञान और अनुभव उन दो व्यक्तित्वों पर चित्रित होंगे। तब कृष्ण एक ऐसे व्यक्ति बन जाते हैं जो कभी धरती पर मौजूद थे और एक प्रसिद्ध हस्ती और राधे की तरह ही बिंदास थे और उनकी उपस्थिति से हमेशा जागती रहने वाली लड़की राधे और उनके साथ एकजुट होना चाहती थी। वास्तव में, यह सत्य है कि आपके अत्मा (आत्मा) ने हमेशा परमात्मा के साथ एकजुट होने की गहरी लालसा की है! लेकिन तब इसे भुला दिया जाता है (या कभी महसूस नहीं किया जाता है) और फिर आप एक अलग अस्तित्व बने रहते हैं, जिसके लिए राधा एक इकाई है और कृष्ण अभी तक एक अन्य इकाई है। फिर, एक फिल्म निर्देशक की तरह, हम कल्पना करते हैं, कल्पना करते हैं, विश्वास करते हैं या राधा को एक मानवीय लड़की के रूप में देखते हैं और कृष्ण को एक सुपर-ह्यूमन या ईश्वर-जैसा व्यक्तित्व। फिर हम बिना किसी प्रयास के उन दोनों के बीच प्रेम संबंध को एक फिल्म की तरह देखते हैं क्योंकि वह सब कुछ है जो अब तक हमारे अनुभव में रहा है, फिल्मों के माध्यम से या प्रेम संबंधों के जीवन के अनुभवों के माध्यम से। जब आपकी चेतना जागृत होती है और उठती है, तभी आप में असली राधा को देख सकते हैं।
 
इसलिए जब एक जीवात्मा (मन / अहंकार के माध्यम से) राधा के दिव्य प्रेम को देखने की कोशिश करता है, तो वह हमेशा अपने मन और अहंकार के साथ उस प्रेम को देखेगा जो खामियों के कारण है। वह / वह निश्चित रूप से नहीं देख रहे हैं कि शुद्ध प्रेम या दिव्य प्रेम के रूप में, लेकिन मानव प्रेम जिसमें हमेशा वासना, आसक्ति, ईर्ष्या, अधिकार, स्वार्थ आदि की अशुद्धियां हैं, यही कारण है कि जो राधा-कृष्ण को फिल्टर के साथ देखता है। मानव प्रेम हमेशा इसे एक मानव प्रेमपूर्ण संबंध के रूप में देखेगा। भक्त यह कह सकते हैं कि यह ईश्वरीय प्रेम है, लेकिन यदि आप निकटता से देखते हैं तो इसमें कोई ईश्वरत्व नहीं होगा बल्कि मानवीयता होगी। ‘ यद्यपि आप कृष्ण को ईश्वर के रूप में देख रहे हैं, फिर भी वह आपको एक सुंदर साहसी व्यक्ति, एक बहादुर-सुपर हीरो, एक उद्धारकर्ता, एक आकर्षक प्रेमी, सभी गुणों और गुणों का एक अनूठा व्यक्ति के रूप में देखेंगे। क्या यह नहीं है कि मनुष्य दूसरे मानव व्यक्तित्व को कैसे देखता है? इसलिए यह विचार अपने आप बन जाता है कि ‘कृष्ण एक आदर्श व्यक्ति हैं’, एक ऐसा व्यक्तित्व जो (स्वाभाविक रूप से) अब तक पृथ्वी पर कभी नहीं मिला है। हर कोई एक पूर्ण व्यक्ति, लड़का या लड़की की तलाश कर रहा है। जब किसी को यह पता नहीं चलता कि वह अनजाने में या अवचेतन रूप से इसे चाह रहा है और ईश्वर (कृष्ण) से प्यार करता है, जो कहता है कि वह केवल वही है जो सत्य है। आप देख सकते हैं कि वास्तविकता में यह कितना सच है!
 
स्वाभाविक रूप से, सभी प्रेम कहानियां और कल्पनाएं मन में फूटती हैं। यहां तक ​​कि अगर हम इसे ईश्वरीय प्रेम के रूप में सोचते हैं, तो हम इसे अपने अनुभव में लाने में विफल होते हैं यदि चेतना अभी भी कम से विकसित हो रही है और विकसित स्थिति से नहीं। कोई उस चीज़ पर विश्वास या एहसास कैसे कर सकता है जिसे उसने अनुभव नहीं किया है (ईश्वर के साथ ईश्वरीय साम्य) या उस सर्वोच्च के साथ अनुभवी एकता) इसलिए भी जब एक विकसित किया जा रहा है, जो ईश्वर और परमात्मा के दिव्य प्रेम और गैर-बराबरी के बारे में समझा सकता है, एक भक्त या एक श्रोता अभी भी प्रेम कहानी को प्रेम कहानी के रूप में अनुभव करेंगे, जिसे उन्होंने अपने जीवन में अनुभव किया है या बाहरी रूप से देखा है और स्मृति में डूबा हुआ है। कृष्ण (परमात्मा) के योग्य होने का मतलब है कि आपको राधा (पूरी तरह से शुद्ध चेतना) तक पहुंचना होगा, तभी दोनों के बीच एक शाश्वत संबंध होगा।
 
RADHE-KRISHNA का प्यार दीवान प्यार और आत्मीयता और परमात्मा का मिलन है। बांडिंग या डिविज़न यूनिअन SELF-REALIZATION
 
चित्र: राखी बैद की पेंटिंग
सबसे शुद्ध रूप में राधा मानवीय चेतना है। तो यह केवल तब होता है जब आप अपने आप को पूरी तरह से शुद्ध कर लेते हैं, आप वह राधा बन सकते हैं जो कुछ और नहीं बल्कि शुद्ध बिना शर्त प्यार, आनंद की स्थिति है। यह उस सच्चिदानंद (आनंद) में है कि आप अपने कृष्ण से मिलते हैं और यह दिव्य बैठक आत्म-साक्षात्कार है।
 
इसलिए अगर कोई राधा को मानवीय गुणों के साथ एक चरित्र के रूप में पहचानता है, तो वे एक अलग भ्रम में जीने के लिए बाध्य होते हैं और अपने कृष्ण को खोजने के मामले में कहीं नहीं टिकते हैं। मैंने व्यक्तिगत रूप से अपने कई ऐसे मित्रों से मुलाकात की है जो कृष्ण के पागल प्रेमी थे और उनसे दिन-रात मांग करते थे, उम्मीद करते हैं कि वह एक दिन खुद को प्रस्तुत करेंगे और वे एक हो सकते हैं, लेकिन ऐसा कभी नहीं हुआ और केवल निराशा में लाया गया। यह मसीह के दूसरे आगमन की प्रतीक्षा कर रहे एक ईसाई की तरह उन्हें बचाने के लिए है। प्रतीक्षा शाश्वत है। स्वर्ग के लोभ में या नरक के भय से निर्णय दिवस की प्रतीक्षा तब तक अनंत काल तक प्रतीक्षा की जाती है जब तक कि यह एहसास नहीं हो जाता है कि सीमित मानव जीवन समाप्त हो रहा है। मसीह का दूसरा आगमन आपकी मसीह चेतना को जागृत करने के अलावा और कुछ नहीं है, जो पहले से ही आपके भीतर है। केवल एक जागृत व्यक्ति द्वैत से ऊपर उठने का प्रयास करेगा और एक दिन यह जान लेगा कि वे स्वयं मसीह चेतना थे। इसी प्रकार मसीह (चेतना) आपको बचाता है, अर्थात आप स्वयं को बचाते हैं। जो लोग बाहरी उद्धारक की प्रतीक्षा करते हैं, जैसा कि मैंने पहले उल्लेख किया है, वे लोग हैं जो लालच या भय से प्रेरित हैं। स्वर्ग का लालच या नरक का डर। या जी पुण्य (गुण) और पापा (अवगुण) का डर।
 
प्रिय, जब हम महसूस करेंगे कि भगवान सभी निर्णयों से परे है और बिना शर्त प्यार का एक गुण है। यदि ईश्वर बिना शर्त प्यार है तो ईश्वर आपको कैसे जज कर सकता है? भगवान आपको कैसे दंडित कर सकते हैं? आप कर्म के नियम से पृथ्वी पर ही यहाँ दंडित और पुरस्कृत होते हैं। स्वर्ग और नरक का अनुभव आत्माओं द्वारा किया जाता है, जबकि पृथ्वी पर ही होता है, मृत्यु के बाद नहीं। मृत्यु के बाद आप केवल एक और रूप लेते हैं, जो इस बात पर निर्भर करता है कि आपने कौन से कर्म संचित किए हैं।
 
इसी तरह, कृष्ण एक भौतिक प्राणी नहीं हैं जो एक दिन एक दिव्य प्रेमी के साथ एक दिव्य विवाह के लिए खुद को प्रस्तुत करेंगे।
 
इसलिए राधा की गलत व्याख्या इसलिए है क्योंकि इसका सही सार वास्तव में महसूस नहीं किया गया है। लेकिन “राधा ‘की स्थिति तक पहुँचने के लिए अपने आप को शुद्ध करने के लिए पूरी कोशिश करने के बाद जल्द ही बाद में वे पाएंगे कि उन्होंने अपने आप में कृष्ण को पाया है, जब शुद्धि के बाद, वे नशे में रहना शुरू कर देते हैं अपने दिव्य आनंद या सच्चिदानंद में – वे तब कृष्ण चेतना की स्थिति का एहसास करते हैं।
 
                          सूरज गुर्जर की पेंटिंग
मुझे लगता है कि मीरा बाई कृष्ण की सर्वोच्च दिव्य प्रेमी थीं। आप उसके जीवन को देख सकते हैं और सच्चाईयों पर चिंतन कर सकते हैं। वह अपने कृष्ण के साथ बहुत ही समर्पित थी और अपने भगवान को बदलने के लिए किसी और से लेती थी। वह उसके प्यार में पागल थी। उसने अपनी प्रशंसा और प्रेम में गीत गाए, कृष्ण की मूर्ति की पूजा की और उसके लिए सभी सांसारिक सुखों को छोड़ दिया। दुनिया उनके गीतों, भक्ति और उपासना के बारे में हमेशा बोलती है, लेकिन शायद ही उन्हें पता चलता है कि वह अपनी बाहरी भक्ति या भक्ति के माध्यम से चेतना की उच्च स्थिति तक पहुंच गई थी। उसने अपनी बाहरी पूजा को बहुत अच्छी तरह से बताया था। आंतरिक रूप से, वह कृष्ण के साथ और अपने भगवान के साथ उस भोज के दिव्य आनंद में थी। वह कृष्ण चेतना में इतनी स्थापित थी कि कुछ भी बाहरी उसे नुकसान नहीं पहुंचा सकता, यहां तक ​​कि जहर भी नहीं! कोई यह सोचने की हिम्मत नहीं करता कि अगर उसे राधा, कृष्ण जैसा शुद्ध प्रेम नहीं था तो कृष्ण उससे मिलने क्यों नहीं आए? यदि कृष्ण एक ऐसे मानवीय प्रतिनिधित्व थे जिनकी बहुत सारी पत्नियाँ और प्रेमी थे, तो मीरा बाई को अपने प्रिय के लिए जीवन भर समर्पण के बावजूद, उनके शारीरिक रूप के जीवन में कोई स्थान क्यों नहीं मिला? यह वास्तव में मेरे कई पुराने दोस्तों की स्थिति है जिन्होंने कहा कि उन्होंने कृष्ण से शादी की है, इसके गहरे और सूक्ष्म पहलुओं को समझे बिना। भ्रम बाद में आंतरिक उथल-पुथल में बदल सकता है और वास्तविकताओं के कारण विश्वासों से मेल नहीं खाता है। इसलिए, मीरा बाई की आंतरिक स्थिति के बारे में कभी नहीं लिखा गया क्योंकि उसकी उच्चतर चेतना की स्थिति ने उसे कभी भी मौखिक नहीं बनाया और न ही कोई इसे महसूस कर सका। सभी ने यहां मूर्ति के प्रति समर्पण देखा। उसे आखिरी बार वृंदावन में देखा गया था जिसके बाद किसी को नहीं पता कि उसके साथ क्या हुआ। कुछ का कहना है कि वह कृष्ण की पूजा करते हुए मर गई। ऐसी पवित्रता और अनुग्रह के प्रेमी के लिए ऐसी दयनीय स्थिति? उनके जैसे संतों के बारे में लिखना किसी के लिए भी मुश्किल है क्योंकि उनके लिए अपनी आंतरिक अवस्थाओं को देखना असंभव है, इसलिए कहानियाँ अक्सर काल्पनिक या दुखद अंत में मानव जीवन की व्याख्याओं के रूप में समाप्त होती हैं। कि कृष्ण, राम और क्राइस्ट के दुखद अंत के बारे में कितने लिखे गए हैं। उन्हें अपने आंतरिक राज्यों के बारे में कोई भिन्नात्मक विचार नहीं है और उन्होंने ऐसा क्यों किया।
 
जबकि दुनिया ने देखा कि मीरा बाई ने अपनी कल्पना में कृष्णा से शादी की थी और हर समय भगवान कृष्ण की मूर्ति की सेवा कर रही थी, वह वास्तव में अपने प्रिय के साथ अपने उच्च स्व के साथ और अपने भीतर की सेवा करने के लिए विवाहित थी। वह दिव्य परमानंद में आनंदित रही और उसने अपने भौतिक शरीर को ऐसी पवित्रता में परिवर्तित करके मोक्ष प्राप्त किया, जो वृंदावन में प्रकाश में भंग हो गया, अन्य संतों की तरह दुनिया के अन्य हिस्सों में भी किया – संत तुलाराम, वल्लारार, चैतन्य महाप्रभु, और अन्य। मेहरबान।
 
इसलिए जब मैंने वृंदावन का दौरा किया, तो मैं निश्चित रूप से वहां कुछ खोजने के लिए गया था। लेकिन यह आंतरिक अभिव्यक्तियों के बाहरी स्थानों के माध्यम से आंतरिक करना था। आप तब पूछ सकते हैं कि यदि सब कुछ नोंक-झोंक है और भीतर क्या है तो इन जगहों पर पौराणिक कथाओं के मजबूत संबंध हैं। निश्चित रूप से हां। यह जानना महत्वपूर्ण है कि संपूर्ण अस्तित्व की दोहरी प्रकृति है। यह तभी भंग होता है, जब कोई व्यक्ति निर्विवादता में विलीन हो जाता है।
 
तो, इस भौतिक विमान (पृथ्वी) पर निश्चित रूप से आंतरिक सूक्ष्म जगत का स्थूल प्रतिबिंब है। हम आंतरिक (भीतर) जाने के लिए बाहरी का उपयोग करते हैं और बाहरी सच्चाइयों का उपयोग आंतरिक सच्चाइयों पर चिंतन करने के लिए करते हैं।
 
इस तरह से मीरा बाई ने अपनी बाहरी (दोहरी) वास्तविकताओं का इस्तेमाल अपने भीतर की अवस्थाओं को करने के लिए किया, जहां वास्तविक अद्वैत रूप में, वह और उसकी प्रेमिका एक थी, कोई दो नहीं थे। यह इस प्रकार है कि दोहरी प्रकृति का उपयोग नंदत्व की ओर बढ़ने के लिए किया जाना चाहिए। अस्तित्व की अंतिम सच्चाई है। एकता। द्वंद्व समाप्त होता है। यदि यह अधूरा नहीं रहता है
 
वास्तव में, रामकृष्ण परमहंस के साथ भी यही हुआ है। अपने पूरे जीवन के लिए वह माँ काली की पूजा करते रहे थे आगे और जानती थी कि उसे अपनी प्यारी माँ के साथ विलीन होना था, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा था। तभी तोतापुरी नाम का एक महान परमहंस वहाँ से गुजर रहा था। तोतापुरी ने उसे बताया कि अगर वह दो का विश्वास छोड़ दे तो मुश्किल नहीं है। रामकृष्ण ने जवाब दिया कि इस विश्वास को छोड़ना मुश्किल था क्योंकि जब भी उन्होंने अपनी आँखें बंद की तो उन्होंने माँ को वहाँ खड़े देखा और वह तुरंत भूल गए कि उन्हें विलय करना है और इसके बजाय उनके प्रति समर्पण में पिघल जाना है। तो, तोतापुरी ने उससे कहा कि वह अपनी आँखें बंद करे और जिस क्षण उसने माँ को तलवार उठाकर दो में देखा। रामकृष्ण ने उनसे पूछा कि उन्हें तलवार कहाँ मिलेगी, जिसके बारे में तोतापुरी ने ठीक वही कहा जो अष्टावक्र के सूत्र में वर्णित है। तोतापुरी ने कहा, “आप यह काली छवि कहाँ से लाए? – उसी जगह से तलवार लाएं। वह भी काल्पनिक है। वह भी आपकी कल्पना का एक अलंकरण है। अपने पूरे जीवन के लिए इसे पोषण करने के माध्यम से, अपने पूरे जीवन के लिए लगातार पेश करने के माध्यम से, यह क्रिस्टलीकृत हो गया है। यह सिर्फ कल्पना है। जब वे अपनी आँखें बंद करते हैं तो हर कोई काली को नहीं देखता है। ” इसलिए रामकृष्ण अब दृढ़ संकल्पित थे, लेकिन जिस क्षण उन्होंने अपनी आँखें बंद कर लीं, उनका साहस मिट गया और उन्होंने अपनी प्यारी माँ पर तलवार से प्रहार करना असंभव कर दिया, क्योंकि वह अपने दिव्य परमानंद में इस बारे में पूरी तरह भूल गए।
 
अंत में तोतापुरी परेशान हो गए और कहा कि उन्होंने रामकृष्ण की मदद करने की कोशिश में काफी दिन बर्बाद कर दिए हैं और उन्हें सख्ती से कहा, “मैंने यहाँ कई दिन बर्बाद कर दिए हैं। यह अच्छा नहीं है। या तो आप इसे करते हैं या मैं छोड़ने जा रहा हूँ मेरा समय बर्बाद मत करो। अब इस बकवास के लिए पर्याप्त है! उस दिन तोतापुरी अपने साथ कांच का एक टुकड़ा लेकर आए और रामकृष्ण को बताया कि यह उनका आखिरी मौका था। रामकृष्ण इस अवसर को खोना नहीं चाहते थे और उन्होंने अपनी आँखें बंद कर लीं और तुरंत ही काली की छवि उनके सामने आ गई। वह दिव्य परमानंद में आनंदित होने वाला था, जब तोतापुरी ने अपने माथे को रामकृष्ण के माथे (तीसरी आँख के स्थान पर) काँच के टुकड़े से काटा। रक्त बह निकला और इस बार रामकृष्ण ने साहस पाया। उसने तलवार उठाई और काली को दो टुकड़ों में काट दिया। जो पल हुआ, सब कुछ एक और नादान हो गया। नदी के साथ लहर एक हो गई, नदी सागर में विलीन हो गई। ऐसा कहा जाता है कि रामकृष्ण छह दिनों तक इस परम वास्तविकता में डूबे रहे। उसे न तो भूख लगती थी और न ही प्यास लगती थी, बाहर की किसी भी चीज़ के बारे में जागरूकता नहीं थी, कुछ भी नहीं था। जब उन्होंने छह दिनों के बाद अपनी आँखें खोलीं, तो उन्होंने कहा, “आखिरी बाधा गिर गई है!” उसने उस अंतिम अवस्था को प्राप्त कर लिया था!
 
यह सभी दोहरे की वास्तविक वास्तविकता है जिसे हम देखते हैं। पूजा करने वाला वही बन जाता है जिसकी पूजा की जाती है। अब आप राधा (रामकृष्ण) और कृष्ण (काली) की कल्पना कर सकते हैं। आपको अनगिनत वास्तविक कहानियां मिलेंगी जहां एक बाहरी प्रतिनिधित्व के माध्यम से अपने ही उच्च राज्यों के साथ प्यार हो गया और अंत में इसके साथ एक हो गया। जैसे आपको पहले श्री चक्र या मेरु की आवश्यकता होती है और आप उस बाहरी प्रतीक पर पहले अभ्यास करते हैं जो भीतर है (संपूर्ण मेरु को अग्रिम श्री विद्या में आंतरिक रूप दिया गया है)। इसी प्रकार, पहले आपको उस शिव के साथ संबंध स्थापित करने के लिए शिव या शिवलिंग की एक छवि की आवश्यकता हो सकती है, जो वास्तव में निराकार और निराधार है। जैसा कि सब कुछ विकसित होता है आंतरिक रूप से, यही कारण है कि अद्वैत श्री आदि शंकराचार्य के महान गुरु ने शिव मानस पूजा को आंतरिक रूप से और बाहरी रूप से नहीं शिव की पूजा करना सिखाया। लेकिन दुर्भाग्य से शिव के प्रतीकात्मक रूप से प्यार करने वाली भीड़ इसके साथ भाग नहीं लेना चाहती है या रामकृष्ण की तरह दृढ़ विश्वास है। जो भगवान के किसी भी रूप के साथ साझेदारी करने के बारे में सोच भी नहीं सकता, वह इस वास्तविकता को आंतरिक करने में असमर्थता के कारण राधा कृष्ण की प्रेम कहानियों के लिए आसानी से गिर जाएगा।
 
इसके बारे में सोचें। सभी धर्मों में इस तरह की वास्तविक कहानियां हैं। प्रत्येक प्रेमी अपने ईश्वर या देवता या ईष्ट को अपनी प्रेमिका (दिव्य माता या दिव्य पिता प्रेमी या दिव्य मित्र या दिव्य उद्धारकर्ता) के रूप में देखता है जब तक कि कोई स्वयं उस रूप के साथ मोक्ष प्राप्त नहीं कर लेता। तो, इसका मतलब यह है कि ये सभी रूप काली, कृष्ण, जीसस, नानक और इसी तरह के संबंधित भक्तों के लिए सही हैं, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि मसीह एक हिंदू को क्यों नहीं दिखाई देते हैं, या कृष्ण एक सिख को दिखाई देते हैं, या काली एक चेसिटियन को दिखाई देती हैं? ऐसा इसलिए है क्योंकि एक ईसाई जिसने यीशु पर चिंतन किया है वह केवल यीशु को देखेगा, एक काली भक्त हमेशा काली को देखेगा और एक सिख केवल नानक को देखेगा कि वे वही हैं जो उन्होंने आंतरिक रूप से देखा है, इसीलिए कृष्ण केवल राधा या मीरा बाई के लिए उपलब्ध थे। लेकिन वास्तव में वे सभी जो विलीन हो गए, वह सर्वोच्च चेतना (परमात्मा) थी, जिसमें से सभी रूप प्रकट होते हैं – चाहे वह कृष्ण, क्राइस्ट, बुद्ध, महावीर, मुहम्मद या नानक हों। भगवान की दिव्य चिंगारी सभी में है, यह केवल वह रूप लेता है जो आप इसे देते हैं।
 
वे क्यों और क्या सिद्धियाँ हैं, यह पूरी तरह से सच है कि सभी किसी भी व्यक्ति को किसी भी तरह की छूट या दुविधा से ग्रस्त होने के कारण पसंद नहीं करते हैं।
 
इसी तरह, शिव की कई कहानियां हैं जो पार्वती को उनके योग्य बनने के लिए दूर भेजती हैं। राम ने अशुद्धता के लिए सीता का परीक्षण किया। अगर कोई इंसान मानवीय प्रवृत्तियों के साथ सोचता है और प्रतिक्रिया करता है तो वह राम को उनकी कार्रवाई या सवाल के लिए जज कर सकता है 
अपनी अशिष्टता के लिए वा या कृष्ण पर इतनी पत्नियों और फिर एक प्रेमी होने का संदेह। मनुष्य सब कुछ तीन गुणों के साथ देखता है और जो कुछ भी वह देख रहा है वह तमोगुण, रजोगुण, सतोगुण से प्रभावित होता है, जबकि इन चित्रणों को चेतना की उच्च अवस्था से समझना पड़ता है। यही कारण है कि पुराणों ने पूरी तरह से एक और रूप ले लिया जब इसे मानव चेतना द्वारा गलत समझा गया। पुराण बहुत विकसित लोगों द्वारा चेतना की एक उच्च अवस्था में लिखे गए थे जहां हर कहानी और हर चरित्र का मानव जीवन के गहरे अर्थ हैं। आप कह सकते हैं कि पौराणिक कथाओं के माध्यम से मानव विकास के सभी रहस्यों को दर्शाया गया है। इसका कुछ इस लेख में आगे उल्लेख कर रहे हैं। यह वही है जो मैं अपनी यात्रा और साधना के अपने वीडियो में पवित्र मंदिरों और वहां घूमने वाली पौराणिक कथाओं में व्यक्त करने की कोशिश कर रहा हूं!
 
इसलिए, राम, कृष्ण या शिव के सभी महिला समकक्ष “चित्त” का प्रतिनिधित्व करते हैं और यही कारण है कि अगर इन महिलाओं को योग्यताओं के लिए गुणवत्ता के लिए निरंतर संघर्ष करने के लिए चित्रित किया गया था। इसलिए महिलाओं ने “चित्त शुद्धि” (आत्मा शुद्धि) का प्रतिनिधित्व किया क्योंकि जब तक कुल चित्त शुद्धि “आप” उच्चतम चक्र या उच्चतम अवस्था तक नहीं बढ़ सकती है जो ईश्वरीय राज्य है (शिव / कृष्ण / राम)। पुरुष और महिला समकक्ष (शिव-पार्वती, कृष्ण-राधा, राम-सीता) के बीच विवाह या मिलन कुछ और नहीं बल्कि आपकी चेतना और ईश्वर चेतना का दिव्य संगम है। इस विलय या मिलन को गुरुदेव शिवयोग के रूप में बताते हैं। यह उस मिलन या विवाह की स्थिति है। यही कारण है कि वह गलत मिथकों और धारणाओं के साथ इस राज्य की गलत व्याख्या करने के लिए किसी को भी हतोत्साहित करता है या इसे बहुत लापरवाही से लेता है – रोमियो और जूलियट की प्रेम कहानी के रूप में आकस्मिक। यह समझना महत्वपूर्ण है कि एक मानव रोमियो और जूलियट जुनून और वासना के साथ प्रत्येक पर जीत सकते हैं लेकिन कभी भी पार्वती या सीता या राधा इन निचली पशुवादी प्रवृत्तियों के साथ अपने विश्वास को नहीं जीत सकते। मतलब कभी भी अशुद्ध मानवीय गुणों के साथ ईश्वरीय अवस्था को पूरा करने के लिए चेतना नहीं उठ सकती है।
 
इसलिए सबसे पहले इन पौराणिक चरित्रों को भगवान के रूप में देखें और फिर प्यार करें और उनकी पूजा करें और अनंत की ओर यात्रा में एक बहुत ही शानदार शुरुआत करें, लेकिन जैसे-जैसे आप आगे बढ़ते हैं, गहरे पहलू खुद को प्रकट करना शुरू करते हैं और फिर ये पात्र प्रत्येक के रूप में खुद को प्रकट करने लगते हैं। उस शुद्ध चेतना के प्रकटीकरण का हर पहलू। इस तरह द्वैत  पूजा अद्वैत  होने लगती है। तब व्यक्ति द्वैत की सीमाओं से ऊपर उठना शुरू कर देता है और नग्नता को देखने लगता है। जब तक आप द्वंद्व की स्थिति में होते हैं तब तक आप हमेशा एक अलग इकाई के रूप में भगवान को देखेंगे। इसलिए आप कृष्ण को अलग और राधा को एक दूर के प्रेमी के रूप में देखते हैं। ये राज्य हमेशा सभी मानवीय गुणों जैसे लालच, भय, ईर्ष्या, उदासी, आदि से शासित होंगे क्योंकि ईशता से निरंतर अलगाव होता है। हमेशा एक प्रेमी की तरह लालसा और अलगाव और हताशा आदि की भावना होती है। लेकिन जिस क्षण साधक सही परिप्रेक्ष्य में बदल जाता है, सभी मानव स्वभाव पीछे छूट जाते हैं और अंतःकरण शुद्ध और दिव्य होता है।
 
यही कारण है कि एक अवधूत राधा की पूजा करने की वकालत नहीं करेगा क्योंकि वह सबसे पहले बाहर की इकाई  है। लोगो को लगेगा कि वह राधे के खिलाफ है। वह राधे के खिलाफ नहीं है, लेकिन वह आपकी अज्ञानता के खिलाफ है, जिसने राधे और कृष्ण को  प्रेमी मानने की अज्ञानता पर गुस्सा किया है। वह अपने वास्तविक उद्देश्य से विचलित हो रही आत्माओं पर गुस्सा कर रहा है और अपने और दुनिया के लिए और अधिक भ्रम पैदा कर रहे है। वह गुस्से में है क्योंकि दुनिया ने अब कृष्ण को पागल प्रेमी कहा है, जो एक लड़की के प्यार में पागल है। वह फिर जोर देकर कहते हैं कि कृष्ण एक प्रेमी नहीं बल्कि एक योद्धा और योगी हैं। हाँ, वह है – आत्मा – जो सब कुछ न्यूट्रल रूप से देख रही है, केवल सनातन धर्म का पालन कर रही है। जब चेतना की इस अति-अवस्था को किसी ऐसे व्यक्ति के द्वारा अपमानित किया जाता है, जो वशीकरण से बंधा हुआ है। वह अवस्था भगवान कैसे हो सकती है? मानव मन कितनी अनभिज्ञता से आँख मूंदकर बस कुछ का पालन करता है क्योंकि यह उनकी विश्वास प्रणाली या समाज द्वारा बनाई गई व्यवस्था का एक हिस्सा था। एक अवधूत हमेशा अज्ञानता को तोड़ेगा। इसलिए आप उन्हीं कहानियों के साथ उनके पास नहीं जा सकते जिन्हें आप देखते हैं क्योंकि वह वही हैं जिन्हें सुप्रीम का एहसास हुआ है।
 
इस लेख में नीचे उल्लेखित सभी और भी गहरे रहस्य हैं, जिन्हें आप समझेंगे क्योंकि आप निरंतरता और अनुक्रम में पढ़ना जारी रखते हैं।
 
अब, मैं इसे भी साझा करता हूं। लोग अब बहुत अच्छी तरह से कृष्ण को अपने स्वयं के वासनाओं के साथ न्यायसंगत ठहराते हैं। वे उसे एक फ़्लर्ट के रूप में चित्रित करते हैं, कुछ भजन इस तरह से गाए जाते हैं (ज्यादातर अनजाने में क्योंकि हर कोई इस तरह से गाता है)। कई कृष्ण के नाम पर अपने विवाहेतर संबंधों को सही ठहराने की स्वतंत्रता लेते हैं, जिसमें कहा गया है कि कृष्ण की 1600+ पत्नियां थीं और तब भी उनका राधा के साथ प्रेम संबंध था। वे वासना और यौन आनंद के अपने प्रतिबिंबों के साथ रासलीला का चित्रण भी करते हैं। तब मैंने कई भक्तों को आपस में लड़ते देखा। एक व्यक्ति भक्तिपूर्वक यह बताने की कोशिश कर रहा था कि कृष्ण ने केवल उन्हें बचाने के लिए शादी की थी दानव के चंगुल से। उन्होंने जो सुना वह पूरी तरह से सही है लेकिन उन्होंने उस कहानी के पीछे के गहरे अर्थों को समझने में असफलता को भी गलत समझा।
 
दुर्भाग्य से, जब तक आप अपने आंतरिक सूक्ष्म प्रणाली के छात्र नहीं होते हैं, तब तक इन आंतरिक रहस्यों में से अधिकांश का कोई मतलब नहीं होगा। इसलिए एक गुरु की जरूरत है, जो कुंडलिनी को जगाने और चेतना को बढ़ाने में मदद कर सके। यह केवल और केवल चेतना की एक उन्नत स्थिति के साथ है कि इस तरह के गहन सत्य स्वयं को उजागर कर सकते हैं और किसी को भी नहीं सिखाया जा सकता है। इसीलिए, भले ही आप इसे किसी को बताएं, जो कट्टर द्वैतवादी है या कोई ऐसा है जो उदारवादी अंध-विश्वास के साथ इन सभी बातों को स्वीकार करेगा। यदि आप समझ रहे हैं कि हम यहां क्या बोल रहे हैं और यहां तक ​​कि संबंधित करने में सक्षम हैं, तो इसे एक महान आशीर्वाद के रूप में लें, क्योंकि यह केवल आपके मास्टर की कृपा से है कि आप इसके साथ संबंध कर सकते हैं। इससे भी बेहतर अगर आप इस जागरूकता में सब कुछ अभ्यास करें।
 
अब, कृष्णा के बारे में इतनी पत्नियाँ और एक प्रेमी जोड़ा है! यहां तक ​​कि एक भक्त भी शर्मिंदा महसूस करता है जब अन्य धर्मों के लोग इस पर सवाल उठाते हैं। इसका कोई उचित उत्तर नहीं है क्योंकि इस बारे में कोई जागरूकता नहीं है कि यह सब क्या है।
 
ये सभी प्रतीकात्मक प्रतिनिधित्व प्रिय हैं! 1600 पत्नियाँ आपकी 1600 नाड़ियों का प्रतिनिधित्व करती हैं! 72000 नाड़ियों में से, ये 1600 नाड़ियाँ ऐसी हैं जो आध्यात्मिक विकास के लिए आध्यात्मिक प्रवाह को ले जाने के लिए जिम्मेदार हैं। पौराणिक कथाओं में कहा गया है कि कृष्ण ने 1600+ महिलाओं से शादी की थी जो राक्षस नरकासुर के बंदी थे। नरकासुर सांसारिक सुखों और अन्य पशुभ (जानवरों की प्रवृत्ति) के लिए हमारी इच्छाओं से पैदा हुए बुरे गुणों का प्रतिनिधित्व करता है। दानव ने कमरुप के राज्य पर शासन किया, जो कि हमारे वासनाओं (कर्मरूपा) के प्रतिबिंबों के माध्यम से स्वयं के लिए बनाई गई आत्म-छवि और व्यक्तित्व का प्रतीक है। )। इस राज्य को रहस्यमय पहाड़ों से घिरा माना जाता है, जो कुछ भी नहीं हैं, लेकिन इस आत्म-छवि को संरक्षित करने के लिए औचित्य की विभिन्न परतें हैं।
 
कहानी कहती है कि मुरा नाम के 5-सिर वाले दानव द्वारा राज्य की रक्षा भी की गई थी, जो उन पांच इंद्रियों का प्रतिनिधित्व करता है जो हमेशा सांसारिक इच्छाओं को प्रोजेक्ट और पोषण करते हैं। कहा जाता है कि दानव ने तीन लोकों (संसार) पर आक्रमण किया, जो भौतिक प्रकृति की दुनिया है, अच्छी दुनिया और बुरी प्रकृति की दुनिया है। मतलब यह कि हम सांसारिक इच्छाओं की खोज और अपनी पहचान के संरक्षण में इन तीन पहलुओं से समझौता करते हैं।
 
तब कहानी में कहा गया है कि नरकासुर ने देवताओं के राजा – भगवान इंद्र पर हमला किया और इंद्रदेव को भुमादेवी द्वारा उपहार में दिए गए 4-गुच्छेदार सफेद हाथी को पकड़ लिया। फिर, उन्होंने भगवान वरुण को कैद किया और फिर सभी देवताओं – अदिति की माँ के चाँद के आकार की बाली को चुरा लिया। अब, हाथी के चार टस्क मूलाधार चक्र का प्रतीक है, जिसमें चार पंखुड़ियां हैं और यह चक्र कार्य अंतःस्रावी ग्रंथियों से संबंधित हैं, मुख्य रूप से एड्रेनालाईन ग्रंथियां, जो इन इच्छाओं के माध्यम से अपहरण कर लेती हैं। माँ का झुमका विशुद्धि चक्र में अमृत का प्रतिनिधित्व करता है, जो वास्तव में 72,000 नादान नेटवर्क का शुद्धिकरण केंद्र है। जब यह केंद्र अवरुद्ध हो जाता है, तो कोई सही और गलत के बीच भेदभाव करने की क्षमता खो देता है।
 
कहानी तब बताती है कि 16,000 युवा लड़कियों को अपने राज्य के अंदर मणिपर्वत नामक पर्वत की चोटी पर कैद किया गया था, जहां दानव के 10 पुत्रों ने युवतियों की रक्षा की थी। मणिपर्वत और कुछ नहीं बल्कि आपका मणिपुर चक्र है और 10 पुत्र 10 जीवन शक्तियों या वायु का प्रतिनिधित्व करते हैं। (प्राण, अपान, उण, समाना, व्यान, नागा, कोरम, किरुकरा, देवदथ, और धनजय)।
 
इसके बाद कहानी का निष्कर्ष है कि कैसे इंद्र ने कृष्ण से राक्षस नरकासुर द्वारा दिए गए दुखों का अंत करने की विनती की। लेकिन नरकासुर को ब्रम्हा का श्राप था कि वह एक महिला के हाथों मर जाएगा। कहानी बताती है कि कृष्ण कैसे उद्यम करते हैं और लड़ते हैं और ब्रह्मांड में आदेश को पुनर्स्थापित करते हैं, जिसका अर्थ है आत्मा को उसकी शुद्ध स्थिति में वापस लाना और आत्मा को शांति प्रदान करना।
 
कहानी में उल्लेख है कि कृष्ण (सुपर-चेतना या आत्मा) गरुड़ (प्राण) पर यात्रा करते हैं, अपनी दूसरी पत्नी सत्यभामा (इडा नाडी) के साथ प्रागज्योतिषा (मूलाधार) की राजधानी में प्रवेश करते हैं, 5-सिर वाले दानव मुरा को हराते हैं (जिसका अर्थ है रेट्रिन्स निश्चय या प्रतिहार की शक्ति के साथ पाँच गाथाएँ)। कृष्ण ने तब 7 पुत्रों (सप्तधातु) को हराया। सप्तधातु 7 शरीर के ऊतक हैं – रस (प्लाज्मा), रक्ता (रक्त), माँसा (मांसपेशी), मेदा (वसा ऊतक), अस्थि (हड्डियाँ और उपास्थि), मज्जा (अस्थि मज्जा) और शुक्रा (प्रजनन ऊतक)। इन सप्तधातु पर विजय प्राप्त करते हुए, वह अपनी दूसरी पत्नी सत्यबामा (इडा नाडी) को इड़ा नाड़ी के माध्यम से मूलाधार चक्र में शांत प्राण का निर्देशन करते हैं और सुप्त कुंडलिका शक्ति को ऊपर की ओर बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं, इस प्रकार राक्षस नरकासुर को मारते हैं।
 
72,000 नाड़ियों में से, 1600 नाड़ियाँ जन्म से ही निष्क्रिय रहती हैं और यह केवल शेष 52000 हैं जिनका उपयोग हम अपने दिन-प्रतिदिन के अस्तित्व के लिए करते हैं। इन 16,000 नादियों के साथ, एक और 108 प्राथमिक नादियाँ भी हैं और इसीलिए सामूहिक रूप से इन्हें कृष्ण की 16108 पत्नियाँ कहा जाता है।
 
तो, ये १६००+ पत्नियाँ वे रूमानी आकृतियाँ नहीं हैं जिन्हें आपका मन कल्पना करता है बल्कि हे, आपकी अपनी १६००+ नाड़ियाँ हैं, जो आपकी आत्मा (कृष्ण) को पवित्र करने और आपको आध्यात्मिक विकास और आत्म-साक्षात्कार और मुक्ति प्रदान करने में संलग्न हैं।
 
रासलीला तब होती है जब आपकी कुंडलिनी उत्तेजित होती है और आपकी सभी नाड़ियाँ बढ़ती हुई शक्ती और चेतना से शुद्ध हो जाती हैं, कृष्ण चेतना की अवस्था में पहुँच जाती हैं, जब आपकी आत्मा (राधे-शुद्ध एक) शुद्धतम एक परमात्मा (कृष्ण) के साथ विलीन हो जाती है और यही है दिव्य नृत्य और परमानंद की दिव्य अवस्था जो वास्तव में रासलीला है।
 
तो हर बार आप साधना करते हैं, अगर आप इसे सही करते हैं, तो आपके भीतर एक रासलीला हो रही है, आपके बीच एक दिव्य नृत्य हो रहा है। वास्तव में बाहर कुछ भी नहीं है। यह है कि अद्वैत आपके जीवन के किसी अन्य समय में द्वैत से पहले होता है, जब एक गुरु आपके जीवन में प्रवेश करता है और आपकी स्वयं की चेतना में प्रकाश फेंकता है ताकि आप उठें और चीजों को उसके वास्तविक सत्य में अनुभव करें। इसलिए, जिसने पौराणिक कथाओं को लिखा है, उसे दोष देने के लिए कुछ भी नहीं है। यह हमारे लिए अज्ञानता है, क्योंकि हम वास्तव में यह कभी नहीं समझ पाए कि वे उच्च सत्य को सरल बना रहे थे, हमें यह बताकर कि हम सबसे ज्यादा सुनना पसंद करते हैं – एक कहानी, सत्य से! दिव्य प्रेम और प्रकाश 💛✨

Share the Love ~

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *