कुछ अल्फ़ाज़ छलका बैठे – Kuch Alfaaz Chalka (My Poem)

इक लम्बी सफर ज़िन्दगी का चलते आए हम
जाने कितने गीत, सुखदुःख के, गाते आए हम
रिश्ते जैसे भी मिले कर्मानुसार, निभाते आए हम
बिगड़े बिखरे ज़िन्दगियों को सवारते आए हम

ज़ेहनदिल की बाते, हमेशा दिल से बताते आए हम
सुर्खियों में या एकांत में, सब कुछ जताते आए हम
कभी धुन अपनी, कभी ज़िन्दगी से उठाते आए हम
गाते गवाते नजाने कितने सीमाओं को मिटते आए हम

जातिवाद, विभाजन ओर अन्य मतभेदों को लाँगते आए हम
एक विश्वएक केवल मानव धर्म को मांगते आए हम
नफरत, विरोध, और कितने विवादों से जूझते आए हम
फिरभी येसु, नानक, राम, अल्लाह, बुध को पूजते आए हम

बंध दरवाज़े, बंध आवाज़ों को खोलते आए हम
जो हकीकत सीधे लफ़्ज़ों में बोलते आए हम
कभी दूसरों को, कभी खुद को नाराज़ करते आए हम
फिरभी, अपनी और उनकी ज़ख्मो को भरते आए हम

ऐसी सोच क्यों की धर्म या समूह बदलो तो इंसान बदल जायेगा
अपना कर्म बदलो धर्म अपने आप बदल जायेगा
तो जो जैसा है, स्वीकार करके अपने दिल में पनाह दे हम
यह ख़याल क्यों पाले, के सबको अपना जैसा बना दे?

मानवता ही एक धर्म है, तोह जियो ओर जीने दो
हर प्यासे को अपने मर्ज़ी के संसाधन से पीने दो
नियंत्रण रख्खे अपनी ज़िन्दगी पे, दूसरों की नहीं
निष्काम प्रेम तो जताने से होती है बताने से नहीं

वसुदैव कुटुम्बकम और एकता के जज़्बात कहाँ गए
आपसी प्रेम और भाईचारे के संस्कार कहाँ गए
नयी दुनिया का निर्माण पहले अपने ज़िन्दगी में करें
जो हो विश्वास, सहनशीलता, आदर, प्रेम से भरें

क्यों हो नए नए विभाजनों के तरीके मन में भर बैठे
क्या पहले से कम थे, जो एक और समुदायऔर कर बैठे
आज एक रूहानी नशा चडा, थोड़े से हम बलखा बैठे
गुस्ताखी माफ़ हो, नशे में कुछ अल्फ़ाज़ छलका बैठे

~ जैकब शिवानंद

Ik lambi safar zindagi ka chalte aaye hum
Na jaane kitne geet, sukh-dukh ke, gaate aaye hum
Rishte Jaise bhi mile karmanusaar, nibhaate aaye hum
Bigde bikhre zindagiyo ko sawarte aaye hum

Zehen-o-dil ke baatein, hamesha dil se batate aaye hum
Surkhiyon mein  ya ekaanth me, sab kuch jataate aaye hum
Kabhi dhun apni, kabhi zindagi ka uthaate aaye hum
gaate gavate najaane kitne seemao ko mitate aaye hum

Jaativaadh, vibhaajan aur anya mathbhedon ko laangte aaye hum
ek vishwa – ek keval maanav dharm ko maangte  aaye hum
Nafrat, virodh aur kitne vivaadon se joojte aaye hum
Fir bhi Yesu, Nanak, Ram, Allah, Buddh ko poojte aaye hum

Bandh darwazein, bandh aawazon ko kholte aaye hum
Jo haqeeqat seedhe lafzol mein bolte aaye hum
Kabhi doosron ko, kabhi khudh ko naaraz karte aaye hum
Fir bhi apni aur unki zakhmon ko bharte aaye hum

Aisi soch kyun ki dharm ya samooh badlo toh insaan badal jayega
Apna karm badlo, dharm apne aap badal jayega
Toh jo jaisa hai, sweekar karke apne dil mein panaah de hum
Yah khayaal kyun paalein, ke sabko apne jaisa bana de hum?

Maanavta hi ek dharm hai, toh jiyo aur jeeno do
Har pyaase ko apni marzi ke sansaadhan se peene do
Niyantran rakhe apni zindagi pe, doosro ki nahi
Nishkaam prem toh jataane se hoti hai, batane se nahi

Vasudaiva Kutumbakam aur ekta ke jazbaat kahaan gaye?
Aapasi prem aur bhaichare ke sanskaar kahaan gaye
Nayi duniya ka nirmaan pehle apne zindagi mein kare
Jo ho vishwaas, sahansheelta, aadar, prem se bhare

Kyun ho naye naye vibhaajano ke tareeke mann mein bhar baithe?
Kya pehle se kam the, jo ek aur samudaay kar baithe
Aaj ek roohani nasha chada, thode se hum balkha baithe
Gusthaaki maaf ho, nashe me kuch alfaaz chalka baithe

~ Jacob Shivanand

https://soundcloud.com/shifting-into-awareness-436952574/kuch-alfaaz-chalka-baithe-my-hindi-poem
Share the Love ~

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × 5 =